देश के यंग IPS अध‍िकारियों को PM मोदी की सलाह- ड्यूटी जॉइन करते ही 'स‍िंघम' ना बनें


PM Narendra Modi's advice to Young IPS officers, do not try to be Singham: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को देश के युवा आईपीएस अध‍िकारियों को संबोध‍ित किया। इस दौरान प्रधानमंत्री ने 'स‍िंघम' फिल्‍म का जिक्र किया और अध‍िकारियों को सलाह दी कि वो ऐसा न करें।


    


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को हैदराबाद में देश के युवा आईपीएस अध‍िकारियों को संबोध‍ित किया। सरदार वल्‍लभभाई पटेल नेशनल पुलिस अकादमी के 'दीक्षांत परेड' में पीएम मोदी वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के जरिए जुड़े। इस दौरान प्रधानमंत्री ने युवा अध‍िकारियों से उनके करियर को लेकर महत्‍वूपूर्ण बातें कीं। इसी दौरान एक पल ऐसा भी आया, जब पीएम को अजय देवगन की फिल्‍म 'सिंघम' की याद आ गई।


पीएम बोले- जो सिंघम देखकर बड़े बनते हैं...


प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन के दौरान 'सिंघम' का जिक्र करते हुए कहा, 'कुछ पुलिस के लोग जब पहले ड्यूटी पर जाते हैं तो उनको लगता है कि पहले मैं अपना रौब दिखा दूं, लोगों को मैं डरा दूं। मैं लोगों में अपना एक हुकुम छोड़ दूं और जो ऐंटी सोशल एलिमेंट हैं वो तो मेरे नाम से ही कांपने चाहिए। ये जो सिंघम वाली फिल्में देखकर बड़े बनते हैं, उनके दिमाग में ये भर जाता है और उसके कारण करने वाले काम छूट जाते हैं।'


'व्यवहार से लोगों के दिलों को जीतना जरूरी'


पीएम मोदी ने आगे कहा, 'सामान्य मानवीय पर प्रभाव पैदा करना है या सामान्य मानवीय में प्रेम का सेतु जोड़ना है, ये तय कर लीजिए। अगर आप प्रभाव पैदा करेंगे तो उसकी उम्र बहुत कम होती है, लेकिन प्रेम का सेतु जोड़ेंगे तो आप रिटायर हो जाएंगे तब भी जहां आपकी पहली ड्यूटी रही होगी वहां के लोग आपको याद करेंगे कि 20 साल पहले ऐसा एक नौजवान अफसर आया था जो हमारी भाषा तो नहीं जानता था। लेकिन अपने व्यवहार से लोगों के दिलों को जीत लिया था। आप एक बार जनसामान्य के दिलों को जीत लेंगे तो उनका नजरिया अपने आप बदल जाएगा।'


 


'मैं युवा अध‍िकारियों से अक्‍सर मिलता हूं'


 


पीएम ने अपने संबोधन में आगे कहा कि वह दिल्‍ली में नियमित तौर पर आईपीएस अध‍िकारियों से मिलते हैं। उन्‍होंने कहा, 'मैं दिल्‍ली में नियमित रूप से उन युवा IPS अधिकारियों के साथ बातचीत करता हूं जो यहां से बाहर निकल चुके हैं। लेकिन इस साल कोरोना के कारण, मैं आप सभी से मिलने में असमर्थ हूं। लेकिन मुझे यकीन है कि अपने कार्यकाल के दौरान, मैं किसी न किसी बिंदु पर आप सभी से अवश्य मिलूंगा।'


 


'खाकी वर्दी का सम्‍मान कभी ना खोएं'


 


प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना काल में खाकी वर्दी का मानवीय पहलू जनमानस के सार्वजनिक स्मृति में बस गया है, क्योंकि पुलिस द्वारा विशेष रूप से इस COVID19 महामारी के दौरान बहुत अच्‍छे काम किए गए हैं। पीएम मोदी ने कहा कि यह बहुत महत्वपूर्ण है कि आपको अपनी वर्दी गर्व हो, अपनी खाकी वर्दी का सम्मान कभी न खोएं।


Comments

Popular posts from this blog

रूस कोविड-19 टीका: दुनिया की पहली कोरोना वायरस वैक्‍सीन 12 अगस्‍त को होगी पंजीकृत

Covid19 Treatment: दाद-खाज-खुजली और हाथी पांव की दवा से मर जाता है कोरोना वायरस, खर्च 25 से 30 रुपए

यूपी- 13 आईपीएस अफसरों समेत आठ जिलों के देर रात बदले कप्तान, देखें लिस्ट