Covid19 Treatment: दाद-खाज-खुजली और हाथी पांव की दवा से मर जाता है कोरोना वायरस, खर्च 25 से 30 रुपए


Covid19 Treatment: पूरी दुनिया में कोरोना संक्रमण का इलाज खोजे जाने की कोशिश जा रही है। इस बीच, खबर है कि दाद-खाज खुजली की दवा आइवरमेक्टिन से कोरोना वायरस का खात्मा किया जा सकता है। यही नहीं, हाथीपांव यानी फाइलेरिया की दवा भी कोरोना के खात्मे में कारगर साबित हुई है। फाइलेरिया में हाथ और पैर हाथी के पांव जितने सूज जाते हैं, इसलिए इस बीमारी को हाथीपांव कहा जाता है। ऑस्ट्रेलिया में प्रयोग सफल रहने के बाद अब भारत में भी इसका इलाज शुरू हो गया है। उत्तर प्रदेश के अपर मुख्य सचिव (स्वास्थ्य) अमित मोहन प्रसाद ने कोरोना मरीजों पर इस दवा के प्रयोग के लिए अनुमति दे दी है। 



वरिष्ठ डॉक्टरों का कहना कि मलेरिया की दवा की बजाय अब कोरोना मरीजों और स्वास्थ्य कर्मियों को आइवरमेक्टिन दवा ही खिलाई जाएगी। शुरुआत में कोरोना मरीजों के साथ-साथ ड्यूटी करने वाले स्वास्थ्यकर्मियों को भी महीने में 3 दिन यह दवा खिलाई जाएगी। गर्भवती महिलाओं और दो वर्ष से कम उम्र के बच्चों को यह दवा नहीं दी जाएगी।


 


ऑस्ट्रेलिया में हो चुका सफल परीक्षण


 


चाइल्ड पीजीआई के प्रवक्ता तथा वरिष्ठ इमरजेंसी ऑफिसर डॉ. मेजर बीपी सिंह के अनुसार, आइवरमेक्टिन दवा का ऑस्ट्रेलिया में परीक्षण चल रहा है और अब तक सफल रहा है। यही नहीं, बाकी देश भी इसी दवा से कोरोना पर काबू पाने की कोशिश कर रहे हैं। अच्छी बात यह है कि भारत में यह दवा पर्याप्त मात्रा में है। यह एक एंटी फंगल और एंटी वॉर्म दवा है। आइवरमेक्टिन 12एमजी दो गोलियों की कीमत बाजार में 25 से 30 रुपए है। महीने में इस दवा का मात्र 3 दिन ही सेवन करना होता है।



इस तरह होगा दवा का प्रयोग


 


Covid-19 मरीजों के संपर्क में आने वाले वे लोग, जिनमें वायरस के लक्षण नहीं हैं, इन्हें आइवरमेक्टिन पहले दिन व सातवें दिन रात के खाते ने 2 घंटे बाद लेना होती है। दवा मरीजों के साथ ही उनके इलाज में जुटे डॉक्टर और स्वास्थ्यकर्मियों को भी दी जाएगी। स्वास्थ्यकर्मी पहला दिन, सातवें दिन और महीने के अंतिम दिन दवा लेंगे। इस तरह उन्हें हर महीने में तीन दिन दवा खानी होगी।


 


इस तरह दी जाएगी दवा


 


Covid-19 में एल-1, एल-2 व एल-3 तीनों श्रेणियों के मरीजों को यह दवा खिलाई जाएगी। इलाज के पहले तीन दिन लगातार रात में भोजन करने के 2 घंटे बाद मरीज दवा लेंगे। इसके साथ मरीजों को एंटी बायोटिक डॉक्सीसाइक्लिन 100 एमजी 5 दिन में 2 बार दी जाएगी।


Comments

Popular posts from this blog

रूस कोविड-19 टीका: दुनिया की पहली कोरोना वायरस वैक्‍सीन 12 अगस्‍त को होगी पंजीकृत

#Kanpur-पत्नी ने जीवन साथी होने का निभाया फर्ज दिव्यांग पति को पीठ पर लादकर कानपुर से ले गयी महाराष्ट्र