पिन्टू सेंगर हत्याकांड- पुलिस ने आसिम उर्फ पप्पू स्मार्ट को मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा से दबोचा।


कानपुर-चकेरी में पूर्व सपा जिलाध्यक्ष के घर के बाहर दिन दहाड़े बसपा नेता एवं जिला पंचायत सदस्य रहे नरेंद्र सिंह उर्फ पिंटू सेंगर की गोली मारकर निर्मम हत्या करने के आरोपी आसिम उर्फ पप्पू स्मार्ट को उसके बड़े भाई और बेटे के साथ कानपुर पुलिस ने छिड़वाड़ा के देहात थाना पुलिस के साथ सँयुक्त अभियान में मध्यप्रदेश के छिड़वाड़ा नगर के देहात थाना क्षेत्र के परासिया रोड स्थित कामठी विहार कालोनी से बुधवार सुबह दबोच लिया है। पप्पू स्मार्ट वहाँ किराए के मकान में नाम बदल कर रहा था। 


 


मध्यप्रदेश के छिड़वाड़ा नगर के थाना देहात के प्रभारी निरीक्षक मोहन सिंह मर्सकोले ने बताया कि यूपी के कानपुर नगर में चकेरी थाना क्षेत्र में हुए नरेन्द्र सिंह सेंगर उर्फ पिंटू सेंगर हत्याकांड का आरोपी आसिम उर्फ पप्पू स्मार्ट अपने बड़े भाई आमिर और बेटे जैन के साथ परासिया रोड स्थित कामठी विहार कालोनी में किराए के मकान में रह रहा था आसिम उर्फ पप्पू थाना चकेरी में दर्ज 302 के मामले में वांछित था


 


वही कानपुर पुलिस अभी आसिम उर्फ पप्पू स्मार्ट की गिरफ्तारी से इंकार कर रही है। एसएसपी दिनेश कुमार पी ने बताया कि पिंटू सेंगर हत्याकांड में अभी किसी भी आरोपी की गिरफ्तारी नही हुई है। पुलिस की टीमें लगी है जल्द ही हत्यारे पुलिस की गिरफ्त में होंगे।


 


बसपा नेता नरेंद्र सिंह उर्फ पिंटू सेंगर 20 जून को जाजमऊ स्थित केडीए आशियाना कॉलोनी के पास पूर्व सपा जिलाध्यक्ष चंद्रेश सिंह के घर के बाहर दो बाइक सवार चार बदमाशों ने ताबड़तोड़ गोलियों की बौछार कर मौत के घाट उतार कर हमलावर फरार हो गए। वहीं कई राउंड फायरिंग होने से इलाके में दहशत फैल गई थी। जिसके बाद पिन्टू के भाई धमेंद्र ने आसिम उर्फ पप्पू स्मार्ट, सऊद अख्तर, महफूज अख्तर, मनोज गुप्ता दो अधिवक्ता समेत अन्य के खिलाफ़ मुकदमा दर्ज कराया था जिसके बाद लगातार पुलिस की कई टीमें हत्याकांड के खुलासा में लगी है लेकिन हत्यारों का कोई सुराग नही लग पा रहा था। 


 


3 साल पहले प्रापर्टी विवाद में हुआ था पिंटू सेंगर पर जानलेवा हमला 


 


जनवरी 2017 में पिंटू सेंगर पर जानलेवा हमला प्रॉपर्टी के विवाद को लेकर हुआ था। भूमाफिया सऊद अख्तर और उसके साथी सफेदपोश कारोबारी पप्पू स्मार्ट ने शूटर गैंग को उसकी हत्या की सुपारी दी थी। पुलिस के मुताबिक पिंटू सेंगर पर जानलेवा हमला कराने वाला सफेदपोश कारोबारी पप्पू स्मार्ट पहले उसका करीबी दोस्त था। पिंटू, पप्पू स्मार्ट और सउद विवादित प्रॉपर्टी का काम करते हैं। पहले स्मार्ट की सऊद से दुश्मनी चलती थी। स्मार्ट कोई विवादित प्रॉपर्टी खरीदता था तो सऊद उस पर टांग अड़ा देता था। जिसे देख स्मार्ट ने पिंटू से हाथ मिला लिया था पिंटू के भी दबंग और तत्कालीन सत्ता पक्ष में अच्छी पकड़ रखने से सऊद ने स्मार्ट के मामलों में दखल देना बंद कर दिया। इसके बाद पिंटू और स्मार्ट की दोस्ती हो गई। पार्टी हो या कोई मीटिंग, हर जगह दोनों को साथ ही देखा जाता था। यहां तक पिंटू शाम को स्मार्ट की दुकान में ही बैठता था। करीब 4 साल पहले ही स्मार्ट ने पिंटू से किनारा कर सऊद से हाथ मिला लिया था।


 


नए प्रोजेक्ट ने दोस्ती में दरार डाली थी


 


पिंटू सेंगर के दस्यु सुंदरी फूलनदेवी से अच्छे संबंध थे। फूलनदेवी पिंटू को भाई मानती थी। जब फूलन सांसद हुई। उस दौरान पिंटू ने स्मार्ट के साथ विवादित जमीन का काम किया था। इसके बाद दोनों ने पीछे मुड़कर नहीं देखा। दोनों एक के बाद एक विवादित जमीन पर हाथ डालते रहे। साथ ही उन लोगों ने प्लाटिंग करके भी मोटी कमाई की थी। सोर्सेज के मुताबिक स्मार्ट ने एक विवादित प्रॉपर्टी खरीदी थी। जिसमें पिंटू का भी पैसा लगा था। इसमें सऊद अड़ंगा डाले था। जिसे देख स्मार्ट ने विवाद को खत्म कराने के लिए पिंटू को डबल क्रॉस कर सऊद से हाथ मिला लिया। इसके बाद स्मार्ट ने विवाद खत्म कर प्रॉपर्टी को बेच दिया। इसमें पिंटू को हिस्सा नहीं मिला। जिसे लेकर दोनों में रंजिश पैदा हो गई थी।


Comments

Popular posts from this blog

#Kanpur - ऑनलाइन सट्टा किंग "सोनू सरदार" को कानपुर पुलिस ने जयपुर से किया अरेस्ट

Kanpur News-"आपदा को अवसर" में बदलने वाले कानपुर के दो युवा बने मिसाल, 70 हज़ार लोगों को 6 माह में दिया रोजगार..

#Kanpur :-ट्यूशन टीचर से रेप का मामला- DIG के निर्देश के बाद,FIR दर्ज आरोपी अरेस्ट