#Kanpur :अमेरिका में पढ़ता है विकास दुबे का बेटा, जानिए- परिवार में कौन कौन है?


विकास दुबे की पत्नी और उसके छोटे बेटे को पुलिस ने गुरुवार को हिरासत में लिया था. पुलिस ने उसकी पत्नी ऋचा से भी पूछताछ की. वहीं उसका बड़ा बेटा विदेश में पढ़ाई करता है.


कानपुर का दुर्दांत अपराधी विकास दुबे शुक्रवार सुबह पुलिस की गोली का शिकार हो गया और एनकाउंटर में मारा गया. उसे मध्य प्रदेश के उज्जैन से गिरफ्तार करने के बाद यूपी एसटीएफ की टीम कानपुर लेकर आ रही थी, लेकिन रास्ते में ही पुलिस की गाड़ी पलटी और उसने भागने की कोशिश की, जिसके बाद उसे एनकाउंटर में ढेर कर दिया गया.


कई सालों से उत्तर प्रदेश में अपराध का राज कायम करने वाले गैंगस्टर विकास दुबे का परिवार भी काफी बड़ा है और उसकी पत्नी राजनीति में हाथ आजमा चुकी है. विकास के परिवार में उसके बूढ़े माता-पिता, भाई-बहन और बच्चे भी हैं.


 


पत्नी और बच्चे- विकास के परिवार में उसकी पत्नी और उसके दो बेटे हैं. उसकी शादी करीब 25 साल पहले ऋचा से हुई थी. ऋचा दुबे ने स्थानीय राजनीति में भी अपनी जगह बनाने की कोशिश की थी और स्थानीय चुनाव लड़े थे. विकास के दो बेटे आकाश और शानू हैं. बड़ा बेटा आकाश अमेरिका में पढ़ाई कर रहा है, जबकि छोटा बेटा शानू फिलहाल बारहवीं में पढ़ रहा है. वो लखनऊ में अपनी मां के साथ रहता था.


 


मां और पिता- विकास के बुजुर्ग माता-पिता भी अपने बेटों के साथ रहते थे. जानकारी के मुताबिक पिता राम कुमार दुबे कानपुर के बिकरू में ही रहते थे और उसी घर मं रह रहे थे, जहां पुलिस और विकास दुबे के बीच 3 जुलाई की रात मुठभेड़ हुई थी. वहीं उसकी मां सरला देवी भी हैं, जो लखनऊ में रहती थीं. बताया जा रहा है कि एनकाउंटर के बाद उसकी मां दूसरे बेटे के घर चली गई थी.


 


भाई और बहन- इसके अलावा विकास का एक छोटा भाई भी है दीप प्रकाश दुबे. दीप प्रकाश और उनकी पत्नी अंजलि दुबे के साथ उसकी मां सरला देवी रह रही थी. वहीं विकास की दो बहनों रेखा और किरण की मौत हो चुकी है, जबकि एक और छोटी बहन चंद्रकांता दुबे शिवली में रहती है.


Comments

Popular posts from this blog

कानपुर पुलिस ने दो कुख्यात शूटरों को मुठभेड़ में गोली मारकर किया गिरफ्तार।

Make In India: योगी सरकार के मंत्रियों ने लॉन्च किया, यूपी का पहला Redmil माइक्रो एटीएम।

Kanpur News-"आपदा को अवसर" में बदलने वाले कानपुर के दो युवा बने मिसाल, 70 हज़ार लोगों को 6 माह में दिया रोजगार..