12 घंटे के सफर की कहानी / गैंगस्टर विकास दुबे रातभर जागता रहा, पूछताछ में मददगार पुलिसवाले-बड़े नेताओं के नाम कबूले; कहा था- गुस्से में इतना बड़ा कांड हो गया


 


यूपी का मोस्ट वॉन्टेड गैंगस्टर विकास दुबे गुरुवार कोउज्जैन में पकड़े जाने के बाद से टेंशन में था। विकास नेउज्जैन सेकानपुर तक के 12 घंटे के आखिरीसफर में रातभरमें एक झपकी तकनहीं ली थी। शायद उसे इस बात का अंदाजा था किपुलिस कुछखेल कर सकती है। विश्वस्त सूत्रों का कहना है किइस सफर में विकास से यूपीएसटीएफ ने कई सवाल किए।


 


जिनकेजवाब देते वक्त उसके चेहरे पर कोई शिकन नहींथी। विकास ने 50 से ज्यादा पुलिस अफसरों और कर्मचारियोंके नाम गिनाए, जो उसके मददगार थे। कानपुर, उन्नाव और लखनऊ के बड़े नेताओं के नामों का भी खुलासा किया तो साथ बैठे लोग एक-दूसरे का चेहरा देखने लगे थे। चेहरे पर मुस्कान लिए विकास ने कहा- गुस्से में बिकरु कांड हो गया। आप लोग (पुलिसवाले) जेल भेज भी देंगे तो कुछ महीने या सालभर में जमानत मिल जाएगी।


 


विकास के बयान का एसटीएफ ने वीडियो बनाकर ईडी को सौंपा- सूत्र


 


सूत्र बताते हैं कि गिरफ्तारी के बाद उज्जैन से कानपुर लौटते वक्त विकास दुबे ने एसटीएफ को कानपुर के चार बड़े कारोबारियों, 11 विधायकों, दो मंत्रियों के नाम लिए हैं, जिनसे उसके घनिष्ठ संबंध थे। अपनी सारी संपत्ति और फंडिंग के बारे में भी जानकारी दी। सूत्र यह भी बताते हैं कि एसटीएफ ने उसके बयान का वीडियो भी बनाया है, जो ईडी को सौंपा जा चुका है।इसके बाद ही ईडी सक्रिय हुई है।


 


पुलिस गुरुवार की शाम साढ़े 6 बजे उज्जैन से निकली थी


कानपुर शूटआउट का मुख्य आरोपी और 5 लाख का इनामी विकास को 9 जुलाई को उज्जैन में महाकाल मंदिर में गार्ड ने पकड़ा लिया था। यहां पुलिस ने हिरासत में लेकर उससे 8 घंटे तक पूछताछ की थी। उसके बाद यूपी एसटीएफ उज्जैन पहुंची और शाम करीब 6 बजे विकास को लेकर सड़क मार्ग से कानपुर के लिए निकली थी। शुक्रवार सुबह 6:30 बजे कानपुर से 17 किमी पहले भौंती में पुलिस की गाड़ी पलट गई। इसमें विकास भी बैठा था। वह हमलाकर भागने की कोशिश में मारा गया।


 


किस मददगार पुलिसवाले की कहां पोस्टिंग, यह भी बताया था


विकास ने एनकाउंटर से पहले अपने कबूलनामे में कई मददगारों के नाम उजागर किए थे। कहा था कि50 से ज्यादा पुलिसवालों ने उसकी अब तक मदद की है।इसमें तीन एडिशनल एसपी और दो आईपीएस अफसरों के नाम भी शामिल हैं। यहीं नहीं, उसे जुबानी सभी नाम याद थे और कौनकहां पोस्ट है, यह भी बताया था।


 


विकास ने कानपुर, उन्नाव और लखनऊ के कई नेताओं के नाम लिए। उसने दिवंगत सीओ देवेंद्र मिश्र से अपनी चिढ़ का राज भी खोला। कहा कि सीओ उसे हद में रहने की बात करते थे। लेकिन, वह चाहता था कि उसके गांव, आसपास के इलाके और थाने पर सिर्फउसका ही राज चले। पुलिस का दखल उसे पसंद नहीं था।


 


विकास ने यही बात उज्जैन में भी पूछताछ के दौरान कही थी। उसने बताया था कि सीओ उसे लंगड़ा कहते थे। मेरे क्षेत्र में मुझे ऐसा कोई कैसे कह सकता था। इसलिए सोच रखा था कि इसे निपटाऊंगा।


 


अन्य पुलिसवालों काे क्यों मारा?


सीओ से चिढ़ थी, अन्य पुलिसवालों का क्या दोष था? इस सवाल के जवाब में विकास ने अफसोस जताया। उसने कहा कि गुस्से में इतना बड़ा कांड हो गया।लेकिन इतनी बड़ी कार्रवाई हो जाएगी, इसका भी अंदाजा नहीं था। उसे लग रहा था कि उसके 'खासलोग' उसे बचा लेंगे। रास्ते मेंवह कई बार खुद पुलिसवालों से पूछता रहा कि आगे क्या करने वाले हैं। विकास कोलगता था कि पुलिस उसे जेल भेजेगी। इसीलिए वह निश्चिंत था किकुछ महीनेया सालभर में जमानत पर जेल से बाहर आ जाएगा।


 


21 नामजद में से 12 अभी भी फरार


अब तक विकास के अलावा उसके करीबी प्रभात, बऊआ, अमर दुबे, प्रेम प्रकाश पांडे, अतुल दुबे का एनकाउंटर हो चुका है। नामजद में 21 आरोपियों में से12अभी फरार हैं। वहीं, चौबेपुर के एसओ रहे विनय तिवारी, दरोगा केके शर्मा समेत 12 लोगों की भीगिरफ्तारी हुई है।


 


कानपुर के चौबेपुर थाना केबिकरु गांव में 2 जुलाई की रात गैंगस्टर विकास और उसकी गैंग ने 8 पुलिसवालों की हत्या कर दी थी। अगली सुबह से यूपी पुलिस विकास गैंग के सफाए में जुट गई। गुरुवार को उज्जैन के महाकाल मंदिर से सरेंडर के अंदाज में विकास की गिरफ्तारी हुई थी। शुक्रवारसुबह कानपुर से 17 किमी पहले पुलिस ने विकास को एनकाउंटर में मार गिराया।


Comments

Popular posts from this blog

रूस कोविड-19 टीका: दुनिया की पहली कोरोना वायरस वैक्‍सीन 12 अगस्‍त को होगी पंजीकृत

Covid19 Treatment: दाद-खाज-खुजली और हाथी पांव की दवा से मर जाता है कोरोना वायरस, खर्च 25 से 30 रुपए

यूपी- 13 आईपीएस अफसरों समेत आठ जिलों के देर रात बदले कप्तान, देखें लिस्ट