पत्रकार शुभममणि हत्याकांड- प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया ने लिया स्वतः सज्ञान राज्य सरकार से मामले की रिपोर्ट की तलब। 


उन्नाव. लखनऊ कानपुर राजधानी मार्ग पर दिनदहाड़े हुई पत्रकार शुभम मणि त्रिपाठी की हत्या के मामले में प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया ने जघन्य हत्याकांड के मामले को स्वतः संज्ञान लेकर उत्तर प्रदेश सरकार प्रमुख सचिव गृह और डीजीपी से पूरे प्रकरण की रिपोर्ट तलब की है। कानपुर जर्नलिस्ट क्लब कंम्पू मेल अखबार के उन्नाव सवांददाता शुभम मणि हत्याकांड के हत्यारों की गिरफ्तारी की निरंतर माँग कर रहा है।



गौरतलब है कि पुलिस ने अबतक 10 नामजद अभियुक्तों में से 3 को गिरफ्तार किया है। इस संबंध में अपर पुलिस अधीक्षक उत्तरी विनोद कुमार पांडे ने बताया कि वादी ऋषभ मणि त्रिपाठी द्वारा अपने भाई शुभम मणि त्रिपाठी की हत्या किए जाने के संबंध में दिव्या अवस्थी के साथ 10 अन्य अभियुक्तों के विरुद्ध आईपीसी की धारा 147, 148, 149, 302, 34 के अंतर्गत अभियोग पंजीकृत कराया था। अभियुक्तों को पकड़ने के लिए चार टीमों का गठन किया गया था जिसमे विवेचना के दौरान अभियुक्त शहनवाज अंजर पुत्र स्व. अंजन आलम को गिरफ्तार कर लिया गया। अपर पुलिस अधीक्षक के अनुसार अभियुक्त शहनवाज ने बताया कि दिव्या अवस्थी का कस्बा शुक्लागंज में प्लाटिंग का कार्य है। जिसको मोनू खान देखता है। दिव्या अवस्थी के प्लाटिंग पर हुए अवैध निर्माण की खबर शुभम मणि त्रिपाठी द्वारा चलाए जाने पर राजस्व विभाग द्वारा अवैध निर्माण को गिरा दिया गया था। पूर्व में हुए हमले के संबंध में शुभम त्रिपाठी द्वारा दिव्या अवस्थी आदि के विरुद्ध अभियोग पंजीकृत कराया गया था। जिसमें दिव्या अवस्थी के विरुद्ध आरोप पत्र न्यायालय में पेश किया जा चुका है। दिव्या अवस्थी व मोनू खान के विरुद्ध शुभम मणि त्रिपाठी द्वारा सोशल मीडिया पर पोस्ट डाले जाने को लेकर दिव्या अवस्थी तिलमिला गई। उसने नाराज होकर मोनू खान को बुलाकर शुभम मणि को रास्ते से हटाने की बात कही थी।


 


नामजद तीन अभियुक्तों पर इनाम घोषित


 


साक्ष्य संकलन व गिरफ्तार अभियुक्तों से पूछताछ के साथ सर्विलांस की मदद से यह बात सामने आई कि नामजद अभियुक्त मोनू खान ने दिव्या अवस्थी के कहने पर अपने मित्र अफसर अहमद, अब्दुल बारी को शुभम मणि त्रिपाठी को रास्ते से हटाने के लिए चार लाख रुपए में सौदा तय किया। जिसकी एडवांस रकम ₹20 हजार दी गई। विगत 19 जून को सूटर की मदद से शुभम मणि त्रिपाठी की गोली मारकर हत्या कर दी गई। फरार अभियुक्तों में दिव्या अवस्थी के ऊपर पुलिस अधीक्षक द्वारा ₹10हजार का इनाम घोषित किया गया है। इसके अतिरिक्त राघवेंद्र अवस्थी व मोनू खान के ऊपर पांच-पांच हजार रुपए का पुरस्कार घोषित किया गया है।


 


पुलिस के आला अधिकारियों के द्वारा भले 48 घंटे में पत्रकार हत्याकांड का खुलासा करने का निर्देश दिया पर आज 8 दिन बीतने के बाद भी मास्टर माइंड समेत अन्य आरोपितों की गिरफ्तारी न हो पाना संदेह बढ़ा रहा है कहीं देरी की वजह गिरफ्तारी से बचने के लिए कोर्ट से अग्रिम जमानत पाने का मौका देना तो नहीं है। दरअसल भू-माफिया के मामलों में पुलिस के द्वारा अब तक दिखाई गई मेहरबानी लोगों के संदेह को पुख्ता करती है। एक साल पहले जानलेवा हमले के विजुअल प्रमाण होने के बाद भी पुलिस के द्वारा उसको छुआ तक नहीं गया।


 


मास्टर माइंड भू-माफिया दंपती की गिरफ्तारी को लेकर कयास भी लगाए जाने लगे हैं कि पूर्व की तरह ही पुलिस उसको बचने का पूरा मौका दे रही है। हालांकि मामले की जांच कर रहे एएसपी उत्तरी विनोद कुमार पांडेय ने बताया कि आरोपितों को पकड़ने की कार्रवाई चल रही है। पुलिस लगातार उनके ठिकानों पर दबिश दे रही है। अभी तक दर्जन भर लोगों को उठाकर पूछताछ की जा रही है। मामले के खुलासे में विभाग के तेजतर्रार दारोगा की तीन टीमें और क्राइम ब्रांच को भी लगाया गया है। आरोपित अभी भागे हुए हैं। जल्द ही गिरफ्तारी की जाएगी।


Comments

Popular posts from this blog

कानपुर पुलिस ने दो कुख्यात शूटरों को मुठभेड़ में गोली मारकर किया गिरफ्तार।

कानपुर : कब्जा रोकने पर दबंगो ने महिला के कपड़े फाड़े, पुलिस पर दबंग भूमाफियाओं से मिलीभगत के आरोप।

कानपुर किदवईनगर विधानसभा- महेश त्रिवेदी और अजय कपूर में काँटे की टक्कर।