शॉर्ट फिल्म 'स्मैक' का ट्रेलर एसपी साउथ रवीना त्यागी ने किया लॉन्च


हर फिक्र को नशे में उड़ाने वाले जरूर ध्यान दें....


कानपुर । स्कूली छात्र और युवा नशे की गिरफ्त में हैं। उनके खून में नशे का जहर घोला जा रहा है और सिस्टम खामोश है। सब्जी का ठेला हो या फिर फलों की दुकान, धड़ल्ले से नशे का सामान सड़क पर बेचा जा रहा है। सुबह से लेकर रात तक इन सौदागरों की दुकानों पर अफीम, चरस और स्मैक खरीदने वालों की लाइन लगी रहती है। नशेखोरी के जाल से युवाओं को निकालने के लिये समाज को जागरूक करना अतिआवश्यक है। शहर के तेजी से उभरते प्रोडक्शन हाउस बाँके बिहारी प्रोडक्शन ने इस जमीनी मुद्दे पर शार्ट फिल्म स्मैक का टीजर कानपुर एसपी साउथ रवीना त्यागी के साथ लांच किया। उन्होंने प्रोडक्शन हाउस की पूरी टीम को धन्यवाद देते हुए कहा कि समाज को जागरूक करने के लिए लगतार इस तरह के मुद्दों पर शॉर्ट फिल्में बनती रहनी चाहिए। टीजर लांच होते ही इसे धड़ल्ले से व्यूज मिलने लगे।
हाल ही में बांके बिहारी प्रोडक्शन के बैनर तले डायरेक्टर श्याम तिवारी ने शॉर्टफिल्म सट्टेबाज बनाई है। फ़िल्म को लाखों व्यूज भी मिल चुके हैं। इस फ़िल्म में दिखाया गया है कि शहरों में सट्टेबाज गिरोहों का जाल फैला हुआ है। ये गिरोह नादान युवाओं को सपनों की दुनिया दिखाते हैं और उन्हें अपनी गिरफ्त में ले लेते हैं। youtube में पूरी फिल्म देखें और कमेंट जरूर करें।
बांके बिहारी प्रोडक्शन लगातार ऐसे मुद्दों पर फिल्में बना रहा है जो समाज से जुड़े हैं।
हालात यह हैं कि छोटे शहरों में क्रिकेट सट्टेबाजी को विदेशों से ऑपरेट किया जा रहा है। पाकिस्तान, अफगानिस्तान, सउदी अरब, दक्षिण अफ्रीका समेत कई देशों में उसका सिंडीकेट है। वहीं, भारत में अहमदाबाद, दिल्ली, जयपुर, कोलकाता, चंडीगढ़ में उसका गैंग एक्टिव है।


Comments

Popular posts from this blog

रूस कोविड-19 टीका: दुनिया की पहली कोरोना वायरस वैक्‍सीन 12 अगस्‍त को होगी पंजीकृत

Covid19 Treatment: दाद-खाज-खुजली और हाथी पांव की दवा से मर जाता है कोरोना वायरस, खर्च 25 से 30 रुपए

यूपी- 13 आईपीएस अफसरों समेत आठ जिलों के देर रात बदले कप्तान, देखें लिस्ट